भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिस ज़मीं पर तिरा नक़्श-ए-कफ़-ए-पा होता है / हरी चंद अख़्तर

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:18, 12 नवम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हरी चंद अख़्तर }} {{KKCatGhazal}} <poem> जिस ज़मी...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिस ज़मीं पर तिरा नक़्श-ए-कफ़-ए-पा होता है
एक इक ज़र्रा वहाँ क़िबला नुमा होता है

काश वो दिल पे रक्खे हाथ और इतना पूछे
क्यूँ तड़प उठता है क्या बात है क्या होता है

बज़्म-ए-दुश्मन है ख़ुदा के लिए आराम से बैठ
बार बार ऐ दिल-ए-नादाँ तुझे क्या होता है

मेरी सूरत मिरी हालत मिरी रंगत देखी
आप ने देख लिया इश्क़ में क्या होता है

ऐ सबा ख़ार-ए-मुग़ीलाँ को सुना दे मुज़्दा
आज़िम-ए-दश्त कोई आबला-पा होता है

हम जो कहते हैं हमेशा ही ग़लत कहते हैं
आप का हुक्म दुरूस्त और बजा होता है