भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जुरि आयौ दल रसिया गोरी को / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:47, 27 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जुरि आयौ दल रसिया गोरी को, जुरि आयौ रे॥ टेक
इत राधा सिर छत्र बिराजै, उत मोहन गिरधारी कौ।
इत ‘राधा जय’ गावैं सहचरी, उतगावै बनवारी कौ॥ जुरि.
हमरी राधा रूप की रासी, रस कौ रास बिहारी कौ।
हमरी राधा वृन्दावन रानी, हमरौ राज बिहारी कौ॥ जुरि.
झांझ ढप अप अप जै बोलत, जै राधा जै मुरारी कौ।
प्रेम उमड़-घुमड़ दलआवत, साँवरी गोरी जोरी कौ॥ जुरि.