भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"जे ते गजगौनी के नितँब हैँ विशद होत / अज्ञात कवि (रीतिकाल)" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अज्ञात कवि (रीतिकाल) }} <poem> जे ते गजगौनी के नितँब ह...)
 
 
पंक्ति 3: पंक्ति 3:
 
|रचनाकार=अज्ञात कवि (रीतिकाल)
 
|रचनाकार=अज्ञात कवि (रीतिकाल)
 
}}
 
}}
 
+
{{KKCatKavita}}
 
<poem>
 
<poem>
 
जे ते गजगौनी के नितँब हैँ विशद होत ,
 
जे ते गजगौनी के नितँब हैँ विशद होत ,

23:15, 1 नवम्बर 2009 के समय का अवतरण

जे ते गजगौनी के नितँब हैँ विशद होत ,
तेती तेती ताकी कटि पातरी परत जात ।
जेती जेती कटि खीन होति जाति तेते तेते ,
ताहि देखिबे को दोऊ उरज उठत जात ।
जेते जेते उठत उरोज उर माँहि वर ,
तेती मुख माँहि भाव भँगिमा भरत जात ।
जेतो मुख भाव तेतो जमत हिये मोँ नेह ,
जेतो नेह तेतो नैन माँहि प्रगटत जात ।


रीतिकाल के किन्हीं अज्ञात कवि का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल महरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।