भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

झूठ की पराजय / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:09, 25 जनवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नाज़िम हिक़मत |अनुवादक=चन्द्रबल...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उन लोरियों से जिन्हें माताएँ गाती हैं
उन समाचारों तक जिन्हें रेडियो पर सुना जाता है
झूठ को परास्त करना
दुनिया में हर जगह —
दिलों में, क़िताबों में, शहरों की सड़कों पर —
इसमें कितना अद्भुत्त आनन्द आता है — यह जान लेना कि
क्या सोता और क्या आता जा रहा है — हमेशा को।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : चन्द्रबली सिंह