भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ढंग से विदाई भी नहीं / ताहा मुहम्मद अली

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:40, 24 अप्रैल 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम तो रोए नहीं बिल्कुल
विदा होते हुए
क्योंकि न तो थी हमारे पास फ़ुरसत
और न ही थे आँसू-
ढंग से हमारी विदाई भी नहीं हुई।

दूर जा रहे थे हम
पर हमें इल्म नहीं था
कि हमारा यह बिछुड़ना है सदा के लिए-
फिर कहाँ से बहती ऐसे में
हमारे आँसुओं की धार ?

बिछोह की वह पूरी रात थी और हम जगे नहीं रहे
(और न बेहोशी में सो ही गए)
जिस रात हम बिछुड़ रहे थे सदा-सदा के लिए।

उस रात
न तो अंधेरा था
न थी रोशनी
और न निखरा चांद ही।

उस रात
हमसे बिछुड़ गया हमारा सितारा-
चिराग़ ने किया हमारे सामने स्वांग
रतजगे का-
ऐसे में सजाते कहाँ से
अभियान
जागरण का?

अंग्रेज़ी से अनुवाद : यादवेन्द्र