भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तथागत / स्वरांगी साने

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:31, 5 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=स्वरांगी साने |अनुवादक= |संग्रह= }} {...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जितना तुम कहते गए शांत रहो
उतना कोलाहल बढ़ता गया मन में
जितनी बार तुमसे सीखा
क्रोध पर काबू पाना
उतनी बार गुस्सा उफ़नता रहा
क्षमा की सीख तुम देते रहे
हम बदला लेते रहे
ऐसा क्यों हुआ तथागत?
‘शरणं गच्छामि’
कहने के बाद भी
तुम्हारी शरण में क्यों न आ सके हम तथागत?
कुछ कहो न तथागत?