भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"तपन लाग्यौ घाम, परत अति धूप भैया / नंददास" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नंददास }}{{KKAnthologyGarmi}} <poeM> (राग सारंग) तपन लाग्यौ घाम, प…)
 
 
पंक्ति 4: पंक्ति 4:
 
}}{{KKAnthologyGarmi}}
 
}}{{KKAnthologyGarmi}}
 
<poeM>
 
<poeM>
(राग सारंग)
+
'''(राग सारंग)'''
  
 
तपन लाग्यौ घाम, परत अति धूप भैया, कहँ छाँह सीतल किन देखो ।
 
तपन लाग्यौ घाम, परत अति धूप भैया, कहँ छाँह सीतल किन देखो ।

22:47, 28 मार्च 2011 के समय का अवतरण

(राग सारंग)

तपन लाग्यौ घाम, परत अति धूप भैया, कहँ छाँह सीतल किन देखो ।
भोजन कूँ भई अबार, लागी है भूख भारी, मेरी ओर तुम पेखो ॥
बर की छैयाँ, दुपहर की बिरियाँ, गैयाँ सिमिट सब ही जहँ आवै ।
’नंददास’ प्रभु कहत सखन सों, यही ठौर मेरे जीय भावै ॥