भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
Change to Roman

तारा सिंह

Kavita Kosh से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

तारा सिंह
Tara.jpg
जन्म: 10 अक्तूबर 1952
जन्म स्थानभारत
कुछ प्रमुख
कृतियाँ
एक बूँद की प्यासी, सिसक रही दुनिया, एक दीप जला लेना, साँझ भी हुई तो कितनी धुँधली, एक पालकी चार कहार, हम पानी में भी खोजते रंग, रजनी में भी खिली रहूँ किस आस पर, अब तो ठंढी हो चली जीवन की राख, यह जीवन प्रातः समीरण सा लघु है प्रिये, तम की धार पर डोलती जगती की नौका, विषाद नदी से उठ रही ध्वनि, नदिया-स्नेह बूँद सिकता बनती, नगमें हैं मेरे दिल के, यह जग केवल स्वप्न आसार
विविध
जीवनीतारा सिंह / परिचय
अभी इस पन्ने के लिये छोटा पता नहीं बना है। यदि आप इस पन्ने के लिये ऐसा पता चाहते हैं तो kavitakosh AT gmail DOT com पर सम्पर्क करें।
Tara Singh

कविताएँ

ग़ज़लें

वैयक्तिक औज़ार
» रचनाकारों की सूची
» हज़ारों प्रशंसक...

गद्य कोश

कविता कोश में खोज करें

दशमलव / ललित कुमार
(परियोजना सम्बंधी सूचनाएँ)