भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम सा सुंदर चाँद / विजय कुमार पंत

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:42, 1 अप्रैल 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

केशो का आच्छादित ये आकाश देखकर
हतप्रभ हूँ मैं इतना सुंदर चाँद देखकर
दमक रही दामिनी का दिव्य प्रवास देखकर
हतप्रभ हूँ मैं इतना सुंदर चाँद देखकर

भ्रकुटी के अवरोध अनगिनत
पलकों के अनुरोध अनगिनत
चंचल नैनों से झरते संवाद देखकर
हतप्रभ हूँ मैं इतना सुंदर चाँद देखकर

शब्दों के संधान सुनहरे
मन पर चलते बाण सुनहरे
अधरों पर फैला अद्भुत उन्माद देखकर
हतप्रभ हूँ मैं इतना सुंदर चाँद देखकर

श्रृंगारित यौवन वसुधा है
मुखरित कितनी प्रेम क्षुधा है
गालों पर बिखरा जीवन मधुमास देखकर
हतप्रभ हूँ मैं इतना सुंदर चाँद देखकर

आह्लादित है अंतर सारा
अप्रतिम कितना रूप तुम्हारा
रोम रोम पुलकित उर का उल्लास देखकर
हतप्रभ हूँ मैं तुम सा सुंदर चाँद देखकर