भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

तुम हो तो ये घर लगता है / विज्ञान व्रत

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:51, 23 अप्रैल 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विज्ञान व्रत |संग्रह= }} {{KKCatGhazal}} <Poem> तुम हो तो ये घर ल…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम हो तो ये घर लगता है
वरना इसमें डर लगता है

कुछ भी नज़र ना आए मुझको
आईना पत्थर लगता है

उसका मुझसे यूँ बतियाना
सच कहता हूँ डर लगता है

जो ऊँचा सर होता है ना
इक दिन धरती पर लगता है

चमक रहे हैं रेत के ज़र्रे
प्यासों को सागर लगता है