Last modified on 11 नवम्बर 2009, at 17:39

तू कि अन्जान है इस शहर के आदाब समझ / फ़राज़


तू कि अन्जान है इस शहर के आदाब[1] समझ
फूल रोए तो उसे ख़ंद-ए-शादाब[2]समझ

कहीं आ जाए मयस्सर[3] तो मुक़द्दर[4] तेरा
वरना आसूदगी-ए-दहर[5] को नायाब[6] समझ

हसरत-ए-गिरिया[7] में जो आग है अश्कों में नहीं
ख़ुश्क आँखों को मेरी चश्म-ए-बेआब[8] समझ

मौजे-दरिया[9] ही को आवारा-ए-सदशौक़[10] न कह
रेगे-साहिल[11] को भी लबे-तिश्ना-सैलाब[12] समझ

ये भी वा[13] है किसी मानूस[14] किरन की ख़ातिर[15]
रोज़ने-दर[16] को भी इक दीदा-ए-बेख़्वाब[17] समझ

अब किसे साहिल-ए-उम्मीद[18] से तकता है ‘फ़राज़’
वो जो इक कश्ती-ए-दिल थी उसे ग़र्क़ाब[19] समझ

शब्दार्थ
  1. ढंग ,शिष्टाचार
  2. प्रफुल्ल मुस्कान
  3. प्राप्य
  4. भाग्य
  5. संतोष का युग
  6. अप्राप्य
  7. रोने की इच्छा
  8. बिना पानी की सरिता
  9. नदी की लहर
  10. कुमार्गी
  11. तट की मिट्टी
  12. बाढ़ के लिए तरसते हुए होंठ
  13. खुला हुआ
  14. परिचित
  15. लिए
  16. द्वार का छिद्र
  17. जागती आँख
  18. आशा के तट
  19. डूबी हुई