भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तेरा पता बताता है / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:48, 15 दिसम्बर 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेरा पता बताता है
एक हवा का झोंका है

फिर उसने ख़त भेजा है
शायद अब के तन्हा है

सबकी प्यास बुझाता है
पानी हो कर प्यासा है

कमरे से डर लगता है
उस में इक आइना है

उस के घर का दरवाज़ा
चौराहे पर खुलता है

शाम हुई घर लौट गया
सुबह का ही तो भूला है

ख़ामोशी थी सड़कों पर
गलियों में हंगामा है