भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"तेरे दीवाने तेरी चश्म-ओ-नज़र से पहले / मख़दूम मोहिउद्दीन" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मख़दूम मोहिउद्दीन |संग्रह=बिसात-ए-रक़्स / मख़दू…)
 
 
पंक्ति 2: पंक्ति 2:
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
 
|रचनाकार=मख़दूम मोहिउद्दीन  
 
|रचनाकार=मख़दूम मोहिउद्दीन  
|संग्रह=बिसात-ए-रक़्स / मख़दूम मोहिउद्दीन  
+
|संग्रह=गुले-तर / मख़दूम मोहिउद्दीन  
 
}}
 
}}
 
{{KKCatGhazal‎}}‎
 
{{KKCatGhazal‎}}‎

08:48, 28 अप्रैल 2011 के समय का अवतरण

तेरे दीवाने तेरी चश्म-ओ-नज़र से पहले
दार से गुज़रे तेरी राहगुज़र से पहले

बज़्म से दूर वो गाता रहा तन्हा-तन्हा
सो गया साज़ पे सर रख के सहर से पहले

इस अँधेरे में उजालों का गुमाँ तक भी न था
शोला रु[1] शोला नवा[2] शोला नज़र[3] से पहले

कौन जाने के हो क्या रंग-ए सहर[4] रंग-ए चमन[5]
मयकदा रक़्स में है पिछले पहर से पहले

निकहते[6] यार से आबाद है हर कुंजे क़फ़स[7]
मिल के आई है सबा[8] उस गुले तर[9] से पहले ।

शब्दार्थ
  1. आत्मा की ज्वाला
  2. अग्निमय स्वर वाला
  3. आग भड़काने वाली नज़र
  4. सुबह के रंग
  5. उपवन का रंग
  6. सुगंध
  7. पिंजरे का हर कोना
  8. सुबह की हवा
  9. ताज़े फूल