भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

तेरे हाथों से छूटी जो, मैं मिट्टी से हमवार हुई / श्रद्धा जैन