भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

तेल जरै बाती जरै, दीपक जरै न कोइ / सुंदरदास

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:36, 5 अगस्त 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुंदरदास }} Category:पद तेल जरै बाती जरै, दीपक जरै न क...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेल जरै बाती जरै, दीपक जरै न कोइ।

दीपक जरताँ सब कहै, भारी अजरज होइ॥

भारी अचरज होइ, जरै लकरी अरु घासा।

अग्नि जरत सब कहैं, होइ यह बडा तमासा॥