भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दर्द-ओ-ग़म का घना अँधेरा था / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
Shrddha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:22, 9 जनवरी 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शीन काफ़ निज़ाम |संग्रह=सायों के साए में / शीन का…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दर्दो ग़म का घना अँधेरा था
पर नज़र में किसी का चेहरा था

उन की ताबीर और क्या होती
ख़्वाब जो भी था वो अधूरा था

आँखें जैसे ग़ज़ल के दो मिसरे
इक सरापा किताब जैसा था

गाँव के घर तो छोटे थे लेकिन
चाँद छत से दिखाई देता था

उन के चेहरे कभी न यूँ भीगे
कोई फूलों से मिल के रोया था

छोड़ कर वो मुझे कहाँ जाता
वो भी मेरी तरह अकेला था

कोई आवाज़ आ रही थी 'निज़ाम'
मुड़ के देखा तो अपना साया था