भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दर्पण में अपने ख़ुद के चेहरे पर / एज़रा पाउंड / एम० एस० पटेल

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:53, 5 अप्रैल 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=एज़रा पाउंड |अनुवादक=एम० एस० पटेल...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओह ! दर्पण में अपरिचित चेहरा !
ओह ! अश्लील संगति, वाह ! सन्त जैसा आतिथेय,
वाह ! मेरे शोक-सन्तप्त मूर्ख,
क्या जवाब है ? ओह १ तुम जो
कोशिश और अभिनय करते गुज़रते असंख्य हो,
मैं ? मैं ? मैं ?
हँसी-मज़ाक, चुनौती, प्रतिझूठ

                  और तुम क्या हो ?
 
मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : एम० एस० पटेल

लीजिए अब मूल अँग्रेज़ी में यही कविता पढ़िए
                  Ezra Pound
      On His Own Face In A Glass

O strange face there in the glass!
O ribald company, O saintly host,
O sorrow-swept my fool,
What answer? O ye myriad
That strive? and play and pass,
Jest, challenge, counterlie!
I? I? I?
And ye?