Last modified on 11 अक्टूबर 2017, at 13:59

दर ब दर की ठोकरें खाऊँ तुम्हें क्या / सुभाष पाठक 'ज़िया'

Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:59, 11 अक्टूबर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुभाष पाठक 'ज़िया' |अनुवादक= |संग्र...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

दर ब दर की ठोकरें खाऊँ तुम्हें क्या
मैं रहूँ ज़िंदा कि मर जाऊँ तुम्हें क्या

कौन सा तुम मेरा रस्ता देखते हो
लौटकर आऊँ नहीं आऊँ तुम्हें क्या

हर तमन्ना हर ख़ुशी को दफ़्न कर दूं
हर घड़ी मैं ख़ुद को तड़पाऊँ तुम्हें क्या

मैं सितारा हूँ मेरी अपनी चमक है
अब रहूँ रौशन कि बुझ जाऊँ तुम्हें क्या

मैं चराग़ों को जलाऊँ या बुझाऊँ
जैसे भी दिल बहले बहलाऊँ तुम्हें क्या

है 'ज़िया' तस्वीर मेरी रंग मेरे
जैसे चाहूँ रंग बिखराऊँ तुम्हें क्या