भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"दस्तक के किवाड़न प असर होइ के रही / रामेश्वर सिन्हा 'पीयूष'" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रामेश्वर सिन्हा 'पीयूष' |अनुवादक= |...' के साथ नया पन्ना बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

15:31, 2 सितम्बर 2013 के समय का अवतरण

दस्तक के किवाड़न प असर होइ के रही,
धनकी समय के आग, लहर होइ के रही।

अलगाव बा लगाव प पत्थर चला रहल,
सीसा के चूर-चूर जिगर होइ के रही।

जब हुश्न बेनकाब जवानी के मोर पर,
अइसे में यार चार नजर होइ के रही।

मन के खिली गुलाब, गंध नेह के उड़ी,
दुनिया में ऊ बिहान सुघर होइ के रही।

कुछ ए तरे बदलाव बा हवा में आ गइल,
‘पीयूष’ अब त गाँव शहर होइ के रही।