भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिन क्यों बीत गए / धनंजय सिंह

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:15, 13 जून 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धनंजय सिंह |संग्रह= }} {{KKCatNavgeet}} <Poem> कौन किसे क्या सम…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौन किसे
क्या समझा पाया
लिख-लिख गीत नए ।
दिन क्यों बीत गए !

चौबारे पर दीपक धरकर
बैठ गई संध्या
एक-एक कर तारे डूबे
रात रही बंध्या ।

यों
स्वर्णाभ-किरण-मंगल-घट
तट पर रीत गए ।

छप-छप करती नाव हो गई
बालू का कछुआ
दूर किनारे पर जा बैठा
बंसीधर मछुआ ।

फिर
मछली के मन पर काँटे
क्या-क्या चीत गए ।