भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल में अक्सर मेहमाँ बन के आता है / चाँद शुक्ला हादियाबादी

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:12, 12 जून 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=चाँद हादियाबादी }} {{KKCatGhazal}} <poem> दिल में अक्सर मेहमा…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


दिल में अक्सर मेहमाँ बन के आता है
पूछ न मुझसे क्या रिश्ता क्या नाता है

मैंने उसको उसने मुझको पहन लिया
क्या पहरावा यह दुनिया को भाता है

उस के दिए गुलाब में काटें भी होंगे
ध्यान ज़ेहन में आते जी घबराता है

दिल के ज़ज्बे सच्चे हों तो रोने से
आँख का हर आंसू मोती बन जाता है

चाँद अकेला लड़ता है अंधियारों से
सुबहो तलक यह तन्हा ही रह जाता है