भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"दीया प्रेम के जलाओगा / विमल तिवारी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विमल तिवारी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

00:30, 15 अगस्त 2019 के समय का अवतरण

मया के बाती ले के
दीया प्रेम के जलाओगा

घर घर गली गांव
मिर जुल के सबझन।

दीया प्रेम के जलाओगा।
अज्ञान ल मिटाये बर

अंधकार ला भगाये बर
सहयोग ला बढ़ाये भर

प्रेम के दीया जलाओगा।
जगमग अंजोर करव

भेदभाव ला दूर करव।
गांव के भाग ला जगाओगा

प्रेम के दीया जलाओगा
सबके साथी दीया हे

सबके घर म बरे।
अंजोर करे बर

नई देखे छोटे बड़े।
सबके जिनगी म

अंजोर बगराये बार
दीया जलगें

दीया प्रेम के जलाओगा।