भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीवार-ओ-दर ख़ामोश दरीचों प' यास है / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:52, 15 दिसम्बर 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दीवार दर ख़ामोश दरीचों प' यास है
क्या जाने शहर किसलिए इतना उदास है

बिछड़े हुओं की याद कहीं आस-पास है
बारिश की पहली शाम का मंज़र उदास है

उन की किसे ख़बर है पता किस से पूछिए
बिछड़े हुओं की याद कहीं आस-पास है

इन सोच में खड़ा हूँ उसे क्या जवाब दूँ
वो मुझ से पूछता है कि तू क्यूँ उदास है

अब के बरस भी वो तो सुबकसर ही जाएगा
सावन से क्या बुझेगी वो सहरा की प्यास है

लगता है जंगलों की ज़मीं पर बसी है वो
बस्ती में इतना किसलिए ख़ौफ़ो हिरास है

बारिश ने जाते-जाते पलट कर कहा 'निज़ाम'
तेरी ये उम्र है कि सुलगती कपास है