भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दुख सगा है / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:05, 14 जून 2007 का अवतरण (New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' }} जब से यह दुःख<br> रात-दिन मे...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब से यह दुःख

रात-दिन मेरे पीछे

लगा है,

तब से मैंने जाना-

गैर हैं सब

एक यही तो मेरा सगा है

सगे जो होते हैं

जरा जरा सी बात पर

मुँह मोड़ जाते हैं,

हम चाहें उन्हें मनाना

पर वे साथ छोड़ जाते हैं

इन सुखों ने और सगों ने

यह दुःख ही है बेचारा

जो मेरे हर दर्द में

सिरहाने बैठा रहा है

रात -रात भर

साथ -साथ जगा है