भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

दुनिया में कौन कौन न ऐक बार हो गया / ख़्वाजा मीर दर्द