भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दूरदरसण / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:27, 19 जनवरी 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ओम पुरोहित कागद |संग्रह=कुचरणी / ओम पुरोहित ‘काग…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


लोगां रा सुपना रो रूखाळो !
भौतिक जुग री
जकी चीजां नै
मध्यम वर्ग रो मिनख
जुटाणो छोड‘र
देख तक नीं सकै
उण नै दिखावै
मिनख उछळ परो
खोस नीं लेवै
इण खातर
आडो काच राखै
अर
दूरदरसण कहावै।