भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"दूर अँधेरा हुआ रौशनी आ गयी / 'हफ़ीज़' बनारसी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार='हफ़ीज़' बनारसी |अनुवादक= |संग्रह= }}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

23:50, 29 नवम्बर 2019 के समय का अवतरण

दूर अँधेरा हुआ रौशनी आ गयी
आप आये नई ज़िन्दगी आ गयी

कोई इक दूसरे का शनाशा नहीं
 हाय किस मोड़ पर ज़िन्दगी आ गयी
 
क्या निजामे-चमन है ज़रा देखिये
कोई रोया, किसी को हंसी आ गयी

इस क़दर बढ़ गईं उनकी ख़ुदबीनियाँ
इश्क़ वालों में भी ख़ुदसरी आ गयी

या नज़ारों में वह जाज़बीयत नहीं
या हमारी नज़र में कमी आ गयी

ग़ैर का ज़िक्र था ग़ैर की बात थी
आप की आँख में क्यूँ नमी आ गयी

चाँद तारे भी हैं महवे-हैरत 'हफ़ीज़'
बढ़ते-बढ़ते कहाँ बंदगी आ गयी