भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देश सारे म्हं पड़ रही किलकी हाथी आला जितैगा / अमर सिंह छाछिया

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:04, 8 अक्टूबर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अमर सिंह छाछिया |अनुवादक= |संग्रह= ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देश सारे म्हं पड़ रही किलकी हाथी आला जितैगा।
जब्त जमानत हो उसकी जो टक्कर म्हं उठैगा।...टेक

इस रोहतक की रेली म्हं गाड़ी बुक कराई थी।
इनका करो सफाया इबकै इननै लूट मचाई थी।
बिन रिश्वत ना मिलै नौकरी या भी इसे नै चलाई थी।
यो वो ऐ विरोधी सै थारी एस.सी.-बी.सी. बनाई थी।
इसकी जमानत भी होवै नहीं यो सरेआम पिटैगा...

ये मांगै वोट, लेवैं ओट, मिठे बोहत बतलावैं।
तेरे छोरे नै लावां नौकरी गैरा हरा दिखावैं।
होया इन्ट्रव्यू गया उस पै नम्बर घाट बतावैं।
पांच-2 लाख रुपये ले ले लिस्ट आप बणावैं।
इनकी रांद इबकै वो हाथी आला काटैगा।

गली-गली म्हं चर्चा हो री विरोधी हारगा।
जो समर्थन करै था इसका वो भी नाटगा।
जिसकै ऊपर यो कुदै था वो सारा पाटग्या।
बणकै चमचा वो दां इसका काटग्या
और बेरा सबनै पाटैगा यो खड़ा सांतल पिटैगा...

यो इन्साफ तो भाइयो थामनै करणा सै।
इनके वादे पै चालोगे तो न्यूऐ रहणा सै।
बिन रोजगार इस महंगाई म्हं भूखा मरणा सै।
बी.एस.पी. के दियो वोट जै थाम नै जीणा सै।
अमरसिंह छाछिया बड़सी आला थारे साटे साटैगा...