भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दो-दो जोगिनिन के बीच / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:54, 27 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

दो-दो जोगिनिन के बीच अकेलौ लाँगुरिया॥ टेक
बड़ी जोगिनी यों कहै मोय टीकौ लादे मोल।
छोटी जोगिनी यों कहै मोय हरवा लादै मोल॥
दो-दो जोगिनिन के.
बड़ी जोगिनी यों कहै मोय घड़ियाँ लादे मोल।
छोटी जोगिनी यों कहै, मोय तगड़ी लादै मोल॥
दो-दो जोगिनिनि के.
बड़ी जोगिनी यों कहै मोय साड़ी लादे मोल।
छोटी जोगिनी यों कहै मोय सेला लादै मोल॥
दो-दो जोगिनिन के.
बड़ी जोगिनी यों कह मोय जूड़ौ लादे मोल।
छोटी जोगिनी यों कहै तू लट मेरी दै खोल॥
दो-दो जोगिनिन के.