भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

धीमे-धीमे पुकार / लक्ष्मीकान्त मुकुल