भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"नंद और जसोमति के प्रेम पगे पालन की / जगन्नाथदास ’रत्नाकर’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
छो (५-नंद और जसोमति के प्रेम पगे पालन की / जगन्नाथदास ’रत्नाकर’ का नाम बदलकर नंद और जसोमति के प्रेम पगे)
 
पंक्ति 7: पंक्ति 7:
 
<poem>
 
<poem>
 
नंद और जसोमति के प्रेम पगे पालन की,
 
नंद और जसोमति के प्रेम पगे पालन की,
लाड़-भरे लालन की लालच लगावती ।
+
::लाड़-भरे लालन की लालच लगावती ।
 
कहै रतनाकर सुधाकर-प्रभा सौं मढ़ी,
 
कहै रतनाकर सुधाकर-प्रभा सौं मढ़ी,
मंजु मृगुनैनि के गुन-गन गावती ॥
+
::मंजु मृगुनैनि के गुन-गन गावती ॥
 
जमुना कछारनि की रंग रस-रारनि की,
 
जमुना कछारनि की रंग रस-रारनि की,
बिपिन-बिहारनि की हौंस हुमसावती ।
+
::बिपिन-बिहारनि की हौंस हुमसावती ।
 
सुधि ब्रज-बासिनि दिवैया सुख-रासिनी की,
 
सुधि ब्रज-बासिनि दिवैया सुख-रासिनी की,
ऊधौ नित हमकौं बुलावन कौं आवती ॥5॥
+
::ऊधौ नित हमकौं बुलावन कौं आवती ॥5॥
 
</poem>
 
</poem>

09:38, 2 मार्च 2010 के समय का अवतरण

नंद और जसोमति के प्रेम पगे पालन की,
लाड़-भरे लालन की लालच लगावती ।
कहै रतनाकर सुधाकर-प्रभा सौं मढ़ी,
मंजु मृगुनैनि के गुन-गन गावती ॥
जमुना कछारनि की रंग रस-रारनि की,
बिपिन-बिहारनि की हौंस हुमसावती ।
सुधि ब्रज-बासिनि दिवैया सुख-रासिनी की,
ऊधौ नित हमकौं बुलावन कौं आवती ॥5॥