भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नई शताब्दी (१) / देसाकू इकेदा

Kavita Kosh से
Firstbot (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:50, 7 सितम्बर 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKAnooditRachna |रचनाकार=देसाकू इकेदा }} Category:जापानी भाषा <poem> अग्रदूत न…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: देसाकू इकेदा  » नई शताब्दी (१)

अग्रदूत नयी सहस्राब्दी का
उदित होता पर्वत -श्रृंखलाओं से
जो प्रसारित होगा
नयी शताब्दी में !
सर्वप्रथम फेलता प्रकाश ,-
सूर्योदय हो रहा है !
अर्द्धशतक मैं जी चूका हूँ
मात्र पृथ्वी की परिक्रमा हेतु
आकाश में शांति-रश्मियाँ भरने के लिए
ज्योति से दुःख के अँधेरे को मिटाने के लिए,
पृथ्वी के मुखमंडल से !
तुम्हारा जो चढ़ चुके हो मेरे साथ
पर्वतों पर इस शताब्दी के
मेरे मित्रों समस्त भूमंडल के !
मैं फिर से करता हूँ आव्हान
समय आगया है छा जाने का समस्त पर्वत श्रृंखलाओं पर
नयी शताब्दी की !
फैलाओ आशा की किरणें सारे संसार में
फिर से सहस्त्रों बार अन्दर व बाहर समाज के
और अपने परितः !
मैं आव्हान करता हूँ अपना भी जैसे तुम्हारा
फिर और फिर व्यापक और व्यापक
फैलाओ आशा की किरणें संसार और समाज में !

अनुवादक: मंजुला सक्सेना