भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नया घर नया कोहबर नया नींद हे / मगही

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:26, 17 जुलाई 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=मगही |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह= }} {{KKCatMagahiR...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

नया घर नया कोहबर नया नींद हे।
नया नया जुड़ल सनेह, सोहाग के रात, दूसर नया नींद हे॥1॥
सासु जे पइसि जगाबए, नया नींद हे।
उठऽ बाबू, भे गेल बिहान, सोहाग के रात, दूसर नया नींद हे॥2॥
सासु जे अइसन बइरिनियाँ, नया नींद हे।
आधि रात बोलथिन[1] बिहान, सोहाग के रात, दूसर नया नींद हे॥3॥
लाड़ो[2] जे जाइ जगाबए, नया नींद हे।
उठऽ[3] परभु, भे गेल बिहान, सोहाग के रात, दूसर नया नींद हे॥4॥
चेरिया जे अँगना बहारइ, नया नींद हे।
दीया[4] के बाती धुमिल भेल, अइसे[5] हम जानली बिहान।
सोहाग के रात, दूसर नया नींद हे॥5॥

शब्दार्थ
  1. बोलती है
  2. लाड़ली, दुलहन
  3. उठिए, जागिए
  4. दीपक
  5. इस तरह