भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नवगुन लगल सनेह, सोहाग रात निंदिया / मगही

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:03, 17 जुलाई 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=मगही |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह= }} {{KKCatMagahiR...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

नवगुन[1] लगल सनेह, सोहाग रात निंदिया।
सेहो पयसी सुतलन दुलरइता दुलहा, जवोरे दुलरइतिन दुलही हे॥1॥
ओते सुतूँ ओते सुतूँ सुगही हे, सोहाग रात निंदिया।
पुरबी चदरिया मइला भेल रे, सोहाग रात निंदिया॥2॥
एतना बचन धनि सुनहु न पयलन, सोहाग रात निंदिया।
चलि भेलन नइहरवा के बाट, सोहाग रात निंदिया॥3॥
घुरूँ घुरूँ[2] आहु चलु मोर सेजरिया, सुहाग रात निंदिया।
संखा चुड़िया[3] पहिराय देबो हे, सोहाग रात निंदिया॥4॥

शब्दार्थ
  1. नौगुना, नया
  2. लौट चलो
  3. शंख की चूड़ी