भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"नालए-जाने-ख़स्ता जाँ / अमजद हैदराबादी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 3: पंक्ति 3:
 
|रचनाकार= अमजद हैदराबादी  
 
|रचनाकार= अमजद हैदराबादी  
 
}}
 
}}
 
+
{{KKCatKavita}}
 
<poem>
 
<poem>
 
नालए-जाने-ख़स्ता-जाँ<ref>निर्बल शरीरवाले दिल की आहें</ref>, अर्शेबरींपै<ref>ईश्वर के समीप तक</ref> जाये क्यों?
 
नालए-जाने-ख़स्ता-जाँ<ref>निर्बल शरीरवाले दिल की आहें</ref>, अर्शेबरींपै<ref>ईश्वर के समीप तक</ref> जाये क्यों?

23:14, 4 नवम्बर 2009 के समय का अवतरण

नालए-जाने-ख़स्ता-जाँ[1], अर्शेबरींपै[2] जाये क्यों?
मेरे लिए ज़मीन पर साहबे-अर्श[3] आये क्यों?
नूरे-ज़मीं-ओ-आसमाँ, दीदये-दिल में आये क्यों?
मेरे सियाह-ख़ाने में कोई दिया जलाये क्यों?
ज़ख़्म को घाव क्यों बनाओ? दर्द को और बढ़ाए क्यों?
निसबतेहू[4] को तोड़ कर कीजिये हाय-हाय क्यों?
बख़्शनेवाला जब मेरा उफ़ूपै[5] है तुला हुआ?
मुझ-सा गुनहगार फिर जुर्म से बाज़ आये क्यों?
‘अमजदे’-ख़स्ताहाल की पूरी हो क्यों कर आरज़ू।
दिल ही नहीं जब उसके पास, मतलबे-दिल बर आये क्यों?


शब्दार्थ
  1. निर्बल शरीरवाले दिल की आहें
  2. ईश्वर के समीप तक
  3. भगवान
  4. ईश्वर-लीनता
  5. क्षमाशीलता पर