Last modified on 15 अक्टूबर 2013, at 14:37

नीं जाणै क्यूं ? / कमल रंगा

आखै सैर में
पसरग्या समचार
गाभण रात
कर’र कूख खाली
नुंवै जलम्यै झांझरकै नै
छोडगी एकलो
नीं जाणै क्यूं?