Last modified on 13 मई 2009, at 23:51

न हो गर आशना नहीं होता / सीमाब अकबराबादी

 न हो गर आशना नहीं होता|
बुत किसी का ख़ुदा नहीं होता|
 
तुम भी उस वक़्त याद आते हो,
जब कोई आसरा नहीं होता|
 
दिल में कितना सुकून होता है,
जब कोई मुद्दवा नहीं होता|
 
हो न जब तक शिकार-ए-नाकामी,
आदमी काम का नहीं होता|

ज़िन्दगी थी शबाब तक "सीमाब",
अब कोई सानेहा नहीं होता|