Last modified on 2 सितम्बर 2012, at 16:11

पति सूँ हीं प्रेम होय / सुंदरदास

Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:11, 2 सितम्बर 2012 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुंदरदास }} Category:पद <poem> पति ही सूं प...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

पति ही सूं प्रेम होय, पति ही सूं नेम होय,
      पति ही सूं छेम होय , पति ही सूं रात है.
पति ही यज्ञ जोग, पति ही है रस भोग,
       पति ही सू मिटे सोग, पति ही को जात है..
पति ही है ज्ञान ध्यान, पति ही है पुण्य दान ,
       पति ही है तीर्थ ,न्हान,पति ही को मत.
पति बिनु पति नाहिं, पति बेनु गति नाहि,
       सुंदर सकल विधि एक पतिव्रत है..