भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पत्थरों की नदी बह गई शहर में / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:16, 14 सितम्बर 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पत्थरों की नदी बह गई शहर में
जाने कैसी हवा फिर चली शहर में

दोनों अतराफ़[1] के लोग ज़ख़्मी हुए
पत्थरों की कहाँ थी कमी शहर में

सौ बरस के जहाँ ज़ेह्न-ए-अत्फ़ाल[2] हैं
रहते हैं दोस्तों हम उसी शहर में

पीर[3] से शम्बा[4] तक दोस्ती की हदें
बन गया क्या से क्या आदमी शहर में

इन्क़िलाबात के सरगना[5] बन गए
चाय की मेज़ के फ़ल्सफ़ी[6] शहर में

मुख़्तलिफ़[7] रंगो-बू के हैं कपड़े मगर
जिस्म की बास है एक-सी शहर में

क़तरा-क़तरा गिरी रात आकाश से
लम्हा-लम्हा बिखरती गई शहर में

शब्दार्थ
  1. दोनों तरफ़ के
  2. बालकों का मस्तिष्क
  3. सोमवार
  4. शनिवार
  5. सरदार
  6. दार्शनिक
  7. विभिन्न