भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परिस्तारेमुहब्बत की मुहब्बत ही शरीअ़त है / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
चंद्र मौलेश्वर (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:12, 27 जुलाई 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सीमाब अकबराबादी |संग्रह= }}Category:गज़ल <poem> परिस्ता...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


परिस्तारे-मुहब्बत की मुह्ब्बत ही शरीअ़त है।
किसी को याद करके आह कर लेना इबादत है॥

जहाँ दिल है, वहाँ वो है, वहाँ सब कुछ।
मगर पहले मुक़ामे-दिल समझने की ज़रूरत है॥

बहुत मुश्किल है क़ैदे-ज़िंदगी में मुतमईन होना।
चमन भी इक मुसीबत था, क़फ़स भी इक मुसीबत है॥

मेरी दीवानगी पर होश वाले बहस फ़र्मायें।
मगर पहले उन्हें दीवाना बनने की ज़रूरत है।

शगुफ़्ते-दिल की मुहलत उम्र भर मुझको न दी ग़म ने।
कली को रात भर में फूल बन जाने की फ़ुर्सत है॥