भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहले ज़मीन बाँटी थी फिर घर भी बँट गया / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:48, 15 दिसम्बर 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहले ज़मीन बांटी थी फिर घर भी बँट गया
इंसान अपने आप में कितना सिमट गया

अब क्या हुआ कि ख़ुद को मैं पहचानता नहीं
मुद्दत हुई कि रिश्ते का कुहरा भी छट गया

हम मुन्तज़िर थे शाम से सूरज के दोस्तों
लेकिन वो आया सर पे तो क़द अपना घट गया

गाँवों को छोड़ कर तो चले आये शहर में
जाएँ किधर कि शहर से भी जी उचट गया

किससे पनाह मांगे कहाँ जाए क्या करें
फिर आफ़ताब रात का घूँघट उलट गया

सैलाब-ए-नूर में जो रहा मुझ से दूर-दूर
वो शख्स फिर अँधेरे में मुझसे लिपट गया