भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पापा / मनविंदर भिम्बर

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:16, 19 अप्रैल 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पापा !
मेरे प्यारे पापा !
मैं इंतज़ार करती रही
चाकलेट का
गुड़िया का

उस दिन पापा नहीं आए
पापा का शरीर आया
तिरंगे में लिपटा हुआ

माँ ने बताया
पापा शहीद हो गए हैं
आसमान में तारा बन गए हैं
पापा ! .....मेरे प्यारे पापा !!