Last modified on 22 अगस्त 2009, at 13:47

पिछली याद / शीन काफ़ निज़ाम

अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:47, 22 अगस्त 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

बाहर है हवा
जिसमें तैरते हैं-- पत्ते
अन्दर है विआ[1]
जिस में है
शोर
शबनम के तक़ातुर[2] का


शब्दार्थ
  1. बर्तन
  2. बूंद-बूंद टपकना