भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पीहर मेरो मालवो / हरियाणवी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:33, 17 जुलाई 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=हरियाणवी |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह= }} {{...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पीहर मेरो मालवो
कचरी री जाणू आर्यो सब सूं बड़ो तरबूज
मेरो तो मन माने नाय मुलक तेरो गिदावड़ो
पीहर मेरो मालवो
हंसा आयो मेरे पावुनो हंसा सूं हंस बोलयो
कैसे करो आवणो
हंसा आयो हंस हंस सीढ़ी चढ़ गयो हंस कर पकड़ी मेरी बांह
लखेरी चूड़ो कांच को झड़ गयो तेरो के गयो गंवार
कचेहरा को घर गयो