भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पूरनिया / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:40, 20 जुलाई 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हरीश भादानी |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem> पूरनिया समुंदर क…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पूरनिया
समुंदर के मुहाने
एक नन्हें शिशु को जन्म देने
जिजीविषाएँ ?
टीसती हैं रात भर तो टीस लेने दो उन्हें,
गुम-सुम
टहनियों की गुँडेरों से उठे
वन पाखियों के स्वर सरीखी साँस
जो बुनने लगे
झीनी हवा का एक कुर्त्ता
एक टोपी बुनने दो उसे
वीथियाँ धोती
खुले आँचल पिलाती दूध,
धूप सी आँखें
पसरती जायँ आगे तो पसरने दो उन्हें-
कुआँरे बाप सा भीरू अँधेरा
कहीं सूरजमूखी सान्दर्भ की हत्या न कर दे !