भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"प्रतिरोध के शब्द / अर्चना कुमारी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अर्चना कुमारी |अनुवादक= |संग्रह=प...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 7: पंक्ति 7:
 
{{KKCatKavita}}
 
{{KKCatKavita}}
 
<poem>
 
<poem>
डरती हुई खामोशियां
+
डरती हुई खामोशियाँ
 
पहनकर लफ्जों का मन
 
पहनकर लफ्जों का मन
 
निर्भीक होकर दौड़ती हैं
 
निर्भीक होकर दौड़ती हैं
पंक्ति 23: पंक्ति 23:
 
हारे हुए हों, जरूरी नहीं होता
 
हारे हुए हों, जरूरी नहीं होता
 
नहीं होता जरूरी
 
नहीं होता जरूरी
कि सवालों के जवाब तुरंत ही गढ़ें जाएं
+
कि सवालों के जवाब तुरंत ही गढ़ें जाएँ
कि प्रतिरोध में डाल दिए जाएं हथियार
+
कि प्रतिरोध में डाल दिए जाएँ हथियार
 
समय सिद्ध करेगा किसी दिन
 
समय सिद्ध करेगा किसी दिन
 
शब्द-सामर्थ्य, शक्ति
 
शब्द-सामर्थ्य, शक्ति

19:02, 20 दिसम्बर 2017 के समय का अवतरण

डरती हुई खामोशियाँ
पहनकर लफ्जों का मन
निर्भीक होकर दौड़ती हैं
अंधेरी सुरंगों में एक उम्मीद नन्ही सी
उजालों का सफर आसान करती हुई

भीड़ से डरता मन
रखता है उंगलियों भर किस्से
गिनतियों भर लोग
कदमों भर दुनिया
नजर भर आकाश
मुठ्ठी भर ज़िन्दगी

तन्हा चल रहे लोग
हारे हुए हों, जरूरी नहीं होता
नहीं होता जरूरी
कि सवालों के जवाब तुरंत ही गढ़ें जाएँ
कि प्रतिरोध में डाल दिए जाएँ हथियार
समय सिद्ध करेगा किसी दिन
शब्द-सामर्थ्य, शक्ति

विरोध में स्वर मुखर हों, मौन नहीं...
प्रतिरोध का प्रतिदर्श
शब्द, शब्द और शब्द।