भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रतिरोध के शब्द / अर्चना कुमारी

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:02, 20 दिसम्बर 2017 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

डरती हुई खामोशियाँ
पहनकर लफ्जों का मन
निर्भीक होकर दौड़ती हैं
अंधेरी सुरंगों में एक उम्मीद नन्ही सी
उजालों का सफर आसान करती हुई

भीड़ से डरता मन
रखता है उंगलियों भर किस्से
गिनतियों भर लोग
कदमों भर दुनिया
नजर भर आकाश
मुठ्ठी भर ज़िन्दगी

तन्हा चल रहे लोग
हारे हुए हों, जरूरी नहीं होता
नहीं होता जरूरी
कि सवालों के जवाब तुरंत ही गढ़ें जाएँ
कि प्रतिरोध में डाल दिए जाएँ हथियार
समय सिद्ध करेगा किसी दिन
शब्द-सामर्थ्य, शक्ति

विरोध में स्वर मुखर हों, मौन नहीं...
प्रतिरोध का प्रतिदर्श
शब्द, शब्द और शब्द।