भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम में पड़ा पुरुष / निज़ार क़ब्बानी / प्रकाश के रे

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:36, 8 मार्च 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=निज़ार क़ब्बानी |अनुवादक=प्रकाश...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम में पड़ा पुरुष
कैसे कर सकता है पुराने शब्दों का प्रयोग ?
प्रेमी की इच्छा करती स्त्री को
क्या भाषा और व्याकरण के विद्वानों की
शरण लेनी चाहिए ?

कुछ नहीं कहा मैंने
उस स्त्री से
जिसे मैंने चाहा ।

जमा किया
प्रेम के सभी विशेषणों को
एक सन्दूक में
और भाग गया सभी भाषाओं से ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : प्रकाश के रे