भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फकीरी में / साजीदा ज़ैदी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:21, 21 दिसम्बर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=साजीदा ज़ैदी |संग्रह= }} <poem> फ़क़ीरी...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फ़क़ीरी में भी ख़ुश-वक़्ती के
कुछ सामान फ़रहाम थे

ख़यालों के बगूले
मुज़्तरीब जज़्बों के हँगामें,
तलातुम बहर-ए-हस्ती में
तमव्वुज-ए-रूह के बन में,
अजब अफ़्ताँ ओ ख़िजाँ मरहले पहनाई शब के,
तड़प ग़म-हा-ए-हिज्राँ की
लरज़ती आरज़ू दीदार-ए-जानाँ की

अदम-आबाद के सहरा में एक ज़र्रा
कि मिस्ल-ए-क़तरा-ए-सीमाब लर्ज़ीदा
सदफ़ में ज़ेहन के जूँ
गौहर-ए-कामयाब पोशीदा
दिल-ए-सद-पारा
जू-ए-ग़म
लरज़ती कश्‍ती-ए-एहसास
जहाँ-बीनी का दिल में अज़्म-ए-दुज़्दीदा
फ़क़ीरी में यही असबाब-ए-हस्ती था यही दर्द-ए-तह-जाम-ए-तमन्ना था
यही सामाँ बचा लेते तो अच्छा था
फ़क़ीरी में मगर ये कौन सी उफ़्ताद आई है
कि सामाँ लुट गया राहों में कासा दिल का ख़ाली है