भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"फूँकि आई सबै बन को / अज्ञात कवि (रीतिकाल)" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अज्ञात कवि (रीतिकाल) }} <poem> फूँकि आई सबै बन को , हिय ...)
(कोई अंतर नहीं)

10:28, 30 जून 2009 का अवतरण

फूँकि आई सबै बन को ,
हिय फूँकि कै मैन की आग जगावति ।
तू तौ रसातल बेधि गई उर ,
बेधति और दया नहिँ लावति ।
आप गई अरु औरन खोवति ,
सौति के काम भली बिधि आवति ।
ज्योँ बड़े बँस तेँ छूटी है ,
त्योँ बड़े बँस तेँ औरन हू को छुड़ावति ।


रीतिकाल के किन्हीं अज्ञात कवि का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल महरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।